लखनऊ में लगातार 14 दिनों से धरना प्रदर्शन जारी

सिटीजनशिप अमेंडमेंट एक्ट के खिलाफ राजधानी लखनऊ में लगातार 14 दिनों से धरना प्रदर्शन जारी है वहीं महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर सर्व धर्म के लोगों ने उपवास रखा ।

इस मौके पर पूर्व राज्यपाल अजीज कुरेशी भी वहां पर मौजूद रहे और उन्होंने कहा कि यह कानून विरोधी है जिसके लिए यूरोप यूनियन ने भारत के इस कानून मतगणना का आयोजन किया है जिसका भारत सरकार ने विरोध भी किया है उसके बावजूद वहां पर इसको लेकर चर्चा और हो रही हैं इसी के साथ ही श्री कुरैशी ने कहा कि गणतंत्र का मतलब यह होता है कि सभी राज्यों की बात को सुना जाए और समझा जाए और इस तरह केरल से लेकर पश्चिम बंगाल पंजाब और राज्यों ने इसको अपने यहां से कैंसिल करके इस कानून के विरोध में अपना प्रस्ताव केंद्र सरकार को भेजा है वह केंद्र सरकार को इन प्रस्ताव को वापस लेना ही पड़ेगा इससे पहले अमरीका में भी अपने फैसले वापस लेने हैं उसी तरह भारत को भी अपने फैसले वापस फैसला वापस लेना पड़ेगा और जिस तरह आज केंद्र सरकार ने कान में तेल डाले हुए यह सोचती है कि बच्चों और औरतों की आवाज उसको सुनाई नहीं दे रही है वह एक आवाज एक तूफान की सरकारों की तरह निकल जाएंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *