दुनिया को मिलेगा नाइट विजन का नया अवतार

थालेस और एमकेयू मिलकर करेंगे भारत और दुनिया के लिए ईलएलएफआई नाइट विजन डिवाइस को विकसित

अपनी भागीदारी को एक कदम और आगे बढ़ाते हुए, थालेस और एमकेयू ने आज क्मम्Ûिचव 2020 में भारत और अन्य दुनिया के सशस्त्र बलों के लिए म्स्थ्प्म् नाइट विजन डिवाइस (एनवीडी) को साथ मिलकर विकसित करने की घोषणा की है। इसके साथ ही दोनों कंपनियों ने ऑप्टिक उपकरणों के विकास पर रणनीतिक सहयोग के लिए 2018 में हस्ताक्षरित समझौता ज्ञापन को और अधिक मजबूती प्रदान की है। इस साझेदारी के तहत एमकेयू की कानपुर, उत्तर प्रदेश स्थित सुविधा में इन उपकरणों का सह-विकास किया जाएगा।

व्यापक दृश्य क्षेत्र के साथ हल्के वजन वाला मोनोकुलर, अभूतपूर्व गतिशीलता और अंधेरे में युद्ध करने की क्षमता प्रदान करता है। हैंड्स-फ्री (फेस मास्क या हेलमेट पर लगा) या हथियार पर लगा, म्स्थ्प्म् बाईं या दाईं आंख के उपयोग के लिए उपयुक्त है और यह बाइनाकुलर कन्फिग्रेशन में स्टीरियोस्कोपिक विजन प्रदान करता है। म्स्थ्प्म्वाहन चलाने और पैराट्रूपर्स एवं स्पेशल फोर्स ऑपरेटर्स के लिए एक आदर्श है। जब इसे एक हथियार पर लगाया जाता है, तब यह यूजर को एक रेड डॉट रोशनी या लेजर प्वाइंटर प्रदान करता है।

एमकेयू की कानपुर स्थित सुविधा में की पहली प्री-सिरीज का एकीकरण 2020 की पहली तिमाही में पूरा होने की उम्मीद है। ‘मेड इन इंडिया’ विजन डिवाइस के वास्तविक मॉडल के 2021 की पहली तिमाही में उपलब्ध होने की संभावना है।

थालेस के वरिष्ठ कार्यकारी उपाध्यक्ष पास्कल सौरिसे,,, ने कहा, “हम एमकेयू के सह-विकास के लिए एमकेयू के साथ अपनी भागीदारी को आगे बढ़ाने के लिए काफी उत्साहित हैं। यह सरकार के ‘मेक इन इंडिया’ विजन के अनुरूप है। उत्तर प्रदेश के रक्षा औद्योगिक गलियारे में आने वाले इस बहुमुखी नाइट विजन डिवाइस को भारत के साथ-साथ दुनियाभर में सशस्त्र बलों के लिए पेश किया जाएगा। एमकेयू के साथ मिलकर, हम देश में रोजगार सृजन में योगदान करते हुए औद्योगिक पारिस्थितिकी तंत्र को मजबूत बनाने के लिए तत्पर हैं।”

एमकेयू लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी नीरज गुप्ता, ने कहा, “थालेस जैसे वैश्विक टेक्नोलॉजी लीडर के साथ भागीदार करने पर हमें बहुत खुशी महसूस हो रही है। यह सहयोग एमकेयू की विनिर्माण क्षमता के साथ थालेस की विशेषज्ञता को जोड़ेगा और रक्षा उद्योग के लिए स्थानीय विनिर्माण को बढ़ावा देगा। हम पूरी आपूर्ति श्रृंखला विकसित करेंगे और उपकरणों को मौजूदा अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप बनाया जाएगा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *