परंपरा और आधुनिकता के बीच संवाद

 

 

आज के आधुनिक युग में परंपरा का निर्वहन करना एक कठिन कार्य है आज की आधुनिक शैली को अपनाते हुए परंपरा का निर्वहन करना ही हमारा लक्ष्य होना चाहिए तभी हम अपनी संस्कृति को बचा सकते हैं। यह बात फिक्की फ्लो के लखनऊ चैप्टर ने रॉयल वीमेनरू परंपरा और आधुनिकता के बीच की पतली रेखा पर चलना नामक एक ऑनलाइन  संवाद कार्यक्रम में मुख्य वक्ता के रूप में बड़ोदरा राजघराने की महारानी राधिका राजे गायकवाड ने कही।

 

उन्होंने कहा कि राजनीति में आने के सवाल पर उन्होंने कहा कि राजनीति का मूल उद्देश्य सेवा है और हम विभिन्न माध्यमों से समाज की सेवा कर रहे हैं इसलिए मुझे राजनीति में आने की आवश्यकता महसूस नहीं होती। उन्होंने यह भी कहा कि जल्द ही वह राजघराने के अनछुए पहलुओं पर एक किताब  लिखेंगी जिसमें बड़ोदरा राजघराने का इतिहास और उसके अनछुए पहलुओं का विस्तार से वर्णन होगा।

कार्यक्रम की संचालक सीमू घई के साथ बातचीत में महारानी, राधिकाराजे गायकवाड़ ने अपने शुरुआती जीवन बड़ौदा के प्रतिष्ठित शाही परिवार में उनके विवाह और अपने काम के बारे में कई किस्से साझा किए। उन्होंने फ्लो सदस्यों को अपने आकर्षक जीवन की एक अनकही झलक दी।

 

उन्होंने इस बात पर भी चर्चा की कि बदलते समय ने कैसे उन्हें अपनी विरासत के संरक्षण में अधिक सक्रिय भूमिका निभाने के लिए प्रेरित किया, चाहे वह शाही आभूषण हो या उनका पैतृक घर हो या विरासत की चंदेरी वस्त्रों की बुनाई की कला को संरक्षित करना।

 

इस कार्यक्रम को संबोधित करते हुए फिक्की फ्लो लखनऊ की अध्यक्षा पूजा गर्ग ने कहा, आज हमारे बीच में उनके जैसे गतिशील और करिश्माई व्यक्ति की मेजबानी करना एक सम्मान था। समय बदल गया है जिस तरह से आधुनिक युग में शाही महिलाओं को माना जाता है। यह बदलाव मुख्य रूप से इस तथ्य के कारण है कि ये महिलाएं अब अपने घर से बाहर आ रही हैं और  पुनरुत्थानवाद राजनीति और सामाजिक सेवा जैसे विभिन्न क्षेत्रों में एक प्रमुख भूमिका निभा रही हैं और अपनी शक्ति और विशेषाधिकार का उपयोग कर सकारात्मक सोच ला रही हैं और समाज में स्थायी परिवर्तन की दिशा में अपना अमूल्य योगदान दे रही हैं।

 

इस कार्यक्रम में देश के सभी 17 फ्लो चैप्टर की सदस्यों ने भाग लिया और महारानी के साथ सवाल जवाब कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *