कानपुर एसबीआई ने मनाया अपना 65वाँ स्थापना दिवस

एसबीआई द्वारा जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज को 2 वेंटिलेटर दान किए गए

एसबीआई द्वारा वृक्षारोपण कार्यक्रम का आयोजन किया गया

एसबीआई ने यूपी बोर्ड की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा के मेधावी छात्रों एवं छात्राओं तथा लोकतन्त्र के चतुर्थ स्तम्भ के रूप में प्रतिष्ठित मीडियाकर्मियों का सम्मान किया


भारत के सबसे बड़े और अग्रणी बैंक के रूप में ख्याति प्राप्त भारतीय स्टेट बैंक 65 वर्ष का हो गया है। 01 जुलाई के दिन 1955 में इसकी स्थापना हुई थी। यह विदित है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की एक महत्वपूर्ण धुरी होने के साथ ही एसबीआई अपने सामाजिक उत्तरदायित्व को लेकर भी हमेशा सक्रिय एवं सजग रहा है। अपने स्थापना दिवस को अविस्मरणीय बनाने के लिए एसबीआई के प्रशासनिक कार्यालय कानपुर द्वारा शारीरिक दूरी का पालन करते हुए विभिन्न आयोजन किए गए। इस क्रम में सर्वप्रथम मॉड्यूल प्रमुख, दिव्यांशु रंजन के कर-कमलों से जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के प्रधानाचार्य, आर.बी. कमल को 2 वेंटिलेटर प्रदान किए गए। इसके उपरांत कर्नल सिद्धार्थ तिवारी वाटिका में 50 फलदार वृक्षारोपण किए गए। इस कार्यक्रम में एमएलसी, अरुण पाठक की भी गरिमामय उपस्थिति रही।

इसके उपरांत कार्यालय परिसर में उप महाप्रबंधक दिव्यांशु रंजन, ने यूपी बोर्ड की 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा में कानपुर के मेधावी छात्रों एवं छात्राओं तथा लोकतन्त्र के चतुर्थ स्तम्भ के रूप में प्रतिष्ठित मीडियाकर्मियों को स्मृति चिह्न एवं उपहार देकर सम्मानित किया। तदुपरान्त कार्यालय परिसर में भी वृक्षारोपण का कार्यक्रम सम्पन्न हुआ।

इस पूरी कार्यक्रम शृंखला के दौरान विश्वनाथ मिश्र, संतोष कुमार, राजीव लोचन, श्री ए के गोयल, विपिन सिंह, टी एन शुक्ला, विनय शाक्य, राकेश त्रिपाठी, सारिका चतुर्वेदी, रविरंजन वर्मा, अरविंद द्विवेदी, विजय अवस्थी, राकेश बिश्नोई, वैभव सिंह सहित बैंक के वरिष्ठ पदाधिकारीगण मौजूद रहे। कार्यक्रम का संचालन दिवाकर मणि, मुख्य प्रबन्धक (राजभाषा) ने किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *