“कोरोना जागरूकता वाहन-स्वच्छता रथ” से ग्रामीण इलाको में कोरोना से बचाव के लिए जानकारी दी जयेगी-निदेशक पंचायतीराज

फारुख खान

अवध के इन जिलों खास करके ग्रामीण इलाको में कोरोना से बचाव के लिए एक “स्वच्छता व्यवहार परिवर्तन कार्यक्रम लागू किया जा रहा है, जो कि इन क्षेत्र के ग्रामीणों को स्वच्छता व्यवहार के परिवर्तनों से संबंधित जानकारी प्रदान की जायेगी। यह बात विश्व शौचालय दिवस के अवसर पर “कोरोना जागरूकता वाहन-स्वच्छता रथ” हरी झण्डी दिखाते वक्त निदेशक पंचायतीराज और निदेशक स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) किंजल सिंह से पंचायतीराज निदेशालय उत्तर प्रदेश में कही।

उन्होंने बताय कि आगा खान फाउंडेशन एवं पंचायतीराज विभाग उत्तर प्रदेश द्वारा
लखनऊ और अवध के जिले बहराइच, सीतापुर, बाराबंकी के लिए रवाना किया।

निदेशक पंचायतीराज ने बताया कि इसी क्रम में “कोरोना जागरूकता वाहन-स्वच्छता रथ” जो कि मोबाइल हैंडवाशिंग, के साथ संचार के अन्य माध्यम जैसे टीवी, माइक, स्पीकर्स इत्यादि से सुसज्जित है, ताकि ग्रामीणों से संवाद करने में आसानी रहे। उन्होंने बताया कि इस “स्वास्थ्य रथ‘’ से लगभग 184 गांवों की 70 प्रतिशत जनता लाभांन्वित हो सकेगी।
निदेशक पंचायतीराज ने बताया कि “कोरोना जागरूकता ’’वाहन-स्वच्छता रथ” के साथ-साथ ही इन्ही ग्रामीण इलाकों के लोगों एवं स्थानीय स्कूलों की भागीदारी में “साबुन बैंक” की भी स्थापना की जायेगी, जिससे हाथों को धुलने एवं स्वच्छ रखने की कोविड-19 (कोरोना) काल एवं उसके बाद भी हाथ धोने एवं साफ-सफाई की आदत हमेशा बनी रहे। उन्होंने बताया कि इससे सामाजिक स्वास्थ्य परिवर्तन की ओर हमारा ‘ग्रामीण’ भारत अग्रसर हो सकेगा।
इस अवसर पर “आगा खान फाउंडेशन टीम” के श्री जय राम पाठक व प्रोग्राम मैनेजर विवेक अवस्थी तथा स्वच्छ भारत मिशन के राजकुमार अपर निदेशक, नोडल ऑफिसर योगेंद्र कटियार, राज्य सलाहकार सुशील कुमार, मनोज एवं संजय सिंह चैहान मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *