अगस्‍त 2021 महीने के लिए राजस्व संग्रह पिछले साल के इसी महीने में संग्रहीत हुए जीएसटी राजस्व के मुकाबले 30 प्रतिशत अधिक

अगस्‍त 2021 में जीएसटी राजस्व संग्रह

अगस्‍त में 1,12,020 करोड़ रुपये का सकल जीएसटी राजस्‍व संग्रह

Posted On: 01 SEP 2021 1:18PM by PIB Delhi

अगस्‍त, 2021 में सकल जीएसटी राजस्व संग्रह 1,12,020 करोड़ रुपये रहा जिसमें सीजीएसटी 20,522 करोड़ रुपये, एसजीएसटी 26,605 करोड़ रुपये, आईजीएसटी 56,247 करोड़ रुपये (वस्‍तुओं के आयात पर संग्रहीत 26,884 करोड़ रुपये सहित) और उपकर (सेस) 8,646 करोड़ रुपये (वस्‍तुओं के आयात पर संग्रहीत 646 करोड़ रुपये सहित) शामिल हैं।

सरकार ने नियमित निपटान के रूप में सीजीएसटी के लिए 23,043 करोड़ रुपये और आईजीएसटी से एसजीएसटी के लिए 19,139 करोड़ रुपये का निपटान किया है। इसके अतिरिक्‍त केन्‍द्र सरकार ने केन्‍द्र और राज्‍यों के बीच 50:50 के आधार पर 24,000 करोड़ रुपये को आईजीएसटी तदर्थ निपटान के तौर पर किया है। अगस्‍त 2021 में नियमित निपटान के बाद केन्‍द्र सरकार और राज्‍य सरकारों द्वारा अर्जित कुल राजस्‍व सीजीएसटी के लिए 55,565 करोड़ रुपये और एसजीएसटी के लिए 57,744 करोड़ रुपये है।

अगस्‍त 2021 महीने के लिए राजस्व संग्रह पिछले साल के इसी महीने में संग्रहीत हुए जीएसटी राजस्व के मुकाबले 30 प्रतिशत अधिक है। महीने के दौरान वस्‍तुओं के आयात से प्राप्‍त राजस्व 27 प्रतिशत अधिक रहा है। अगस्‍त 2019-20 के राजस्‍व संग्रह 98,202 करोड़ रुपये की तुलना में इसमें 14 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।

जीएसटी संग्रह लगातार नौ महीने तक 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक रहने के बाद जून 2021 में घटकर 1 लाख करोड़ रुपये के स्‍तर से नीचे आ गया था। कोविड प्रतिबंधों में ढील देने के बाद जीएसटी संग्रह जुलाई और अगस्‍त 2021 में फिर 1 लाख करोड़ से अधिक हो गया जो यह दर्शाता है कि अर्थव्‍यवस्‍था तेजी से सुधर रही है। आर्थिक वृद्धि और कर अपवंचना निरोधक गतिविधियों खासकर फर्जी बिल बनाने वालों के खिलाफ कार्रवाई से जीएसटी संग्रह में बढ़ोतरी हुई है और आने वाले महीनों में जीएसटी संग्रह के दमदार बने रहने की संभावना है।

नीचे दी गई तालिका में अगस्‍त, 2020 के मुकाबले अगस्‍त 2021 महीने के दौरान संग्रहीत जीएसटी राजस्‍व के राज्यवार आंकड़े दिए गए हैं।

अगस्‍त 2021 महीने के दौरान जीएसटी राजस्‍व में राज्यवार वृद्धि

 राज्‍यअगस्‍त-20अगस्‍त-21प्रतिशत वृद्धि
1जम्मू और कश्मीर32639220%
2हिमाचल प्रदेश59770418%
3पंजाब1,1391,41424%
4चंडीगढ़1391444%
5उत्तराखंड1,0061,0898%
6हरियाणा4,3735,61828%
7दिल्ली2,8803,60525%
8राजस्थान2,5823,04918%
9उत्तर प्रदेश5,0985,94617%
10बिहार9671,0377%
11सिक्किम14721949%
12अरुणाचल प्रदेश355352%
13नगालैंड31322%
14मणिपुर264571%
15मिजोरम121631%
16त्रिपुरा435630%
17मेघालय10811910%
18असम70995935%
19पश्चिम बंगाल3,0533,67820%
20झारखंड1,4982,16645%
21उड़ीसा2,3483,31741%
22छत्तीसगढ़1,9942,39120%
23मध्य प्रदेश2,2092,43810%
24गुजरात6,0307,55625%
25दमन और दीव701-99%
26दादरा और नगर हवेली14525474%
27महाराष्ट्र11,60215,17531%
29कर्नाटक5,5027,42935%
30गोवा21328534%
31लक्षद्वीप01220%
32केरल1,2291,61231%
33तमिलनाडु5,2437,06035%
34पुदुचेरी13715614%
35अंडमान व निकोबार द्वीप समूह132058%
36तेलंगाना2,7933,52626%
37आंध्र प्रदेश1,9552,59133%
38लद्दाख514213%
97अन्य क्षेत्र180109-40%
99केन्‍द्र क्षेत्राधिकार16121433%
 कुल योग66,59884,49027%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *