बैडमिंटन कोच गौरव और पलक का सम्मान

लखनऊ। टोक्यो पैरालम्पिक में बैडमिंटन में भारत को चार पदक दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले कोच गौरव खन्ना और मिक्सड डबल में सेमीफाइनल तक पहुंचीं पलक कोहली को एक्सीलिया स्कूल में सम्मानित किया गया। इस अवसर पर उन्होंने टोक्यो के अपने अनुभव भी साझा कएि।

कार्यक्रम की शुरुआत में गौरव खन्ना और पलक कोहली को भारतीय खेल प्राधिकरण के सहायक निदेशक अरुण और वरिष्ठ बैडमिंटन कोच देवेंद्र कौशल ने स्मृति चिह्न प्रदान कर सम्मानित किया।
एक्सीलिया स्कूल के चेयरमैन डीएस पाठक और उपाध्यक्ष मंजू पाठक ने मोहिता खन्ना (पत्नी गौरव खन्ना ) का सम्मान किया।

गौरव खन्ना ने कहा कि टोक्यो में भारतीय टीम ने जो दो स्वर्ण, एक रजत और एक कांस्य पदक जीते हैं, उसके पीछे प्रमोद भगत, कृष्णा नागर, सुहास एलवाई और मनोज सरकार की अथक मेहनत हैं। उन्होंने कहा कि बैडमिंटन को टोक्यो पैरालम्पिक में पहली बार शामिल किया गया था, टीम में सात सदस्य शामिल थे, जिनमें से सिर्फ पलक, पारुल परमार और तरुण ढिल्लन पदक प्राप्त करने से चूक गए। हालांकी ये खिलाड़ी पदक के काफी करीब पहुंच गए थे। उन्होंने उम्मीद जतायी 2024 में फ्रांस की राजधानी पेरिस में होने वाले अगले पैरालम्पिक खेलों में भारत का प्रदर्शन और अधिक दमदार होगा।

पलक कोहली ने टोक्यो के अपने अनुभव साझा करते हुए कहा क िअपने साथी खिलाडि़यों को जीतते हुए देखना अद़भुत पल थे। उन्होंने कहा, मिक्सड डबल में प्रमोद के साथ सेमीफाइनल में वे जीत के काफी करीब थीं, मगर अंतिम मौके पर कुछ चूक उन्हें भारी पड़ गई। पलक ने कहा क िअब मैं पेरिस पैरालम्पिक में अच्छा प्रदर्शन करना चाहूंगी।

स्पोटर्स अथारिटी ऑफ इंडिया के सहायक निदेशक अरुण ने कहा कि हम अभी और खिलाड़ी ओलंपिक और पैरालम्पिक के लिए तैयार करना चाहेंगे। देश में खेलों के लिए बेहतर माहौल बना है, लोग खेलों के प्रति और संजीदा हुए हैं। ऐसे में खेल प्रशासकों की भूमिका और महत्वपूर्ण हो जाती है।

इस अवसर पर एक्सीलिया स्कूल के चेयरमैन डीएस पाठक और उपाध्यक्ष मंजू पाठक, एक्सीलिया स्पोटर्स एकेडमी के प्रमुख प्रवीण पाण्डे, ओमैक्स सिटी सोसायटी के अध्यक्ष एचके सिंह और उपाध्यक्ष एचपी यादव, अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी प्रेम कुमार अले, नीतेश गायकवाड़, अबू हुबैदा, चिराग बरेठा, राहुल कुमार समेत अनेक राष्ट्रीय खिलाड़ी, प्रशिक्षु, उनके अभिभावक और शिक्षक शिक्षिकाएं आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *