Sat. Jul 11th, 2020

आम के निर्यात को हरी झण्डी


उत्तर प्रदेश में कृषि की अपार संभावनाएं निर्यात करने की इसी संबंध में उत्तर प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही से एक सवाल में उन्होंने कहा कि कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग से किसानों को क्या नुकसान होगा या फायदा होगा तो उन्होंने कहा कि बहुत फायदा होगा क्योंकि हम कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग को एक कलस्टर आधारित कृषि का काम होगा जिससे किसानों की आमदनी दोगुनी होगी साथ ही पैदावार भी ज्यादा होगी। उत्तर प्रदेश में तुलसी की क्लस्टर आधारित खेती शुरू की गई है जिसके परिणाम बहुत अच्छे आ रहे हैं और भविष्य में बहुत सी आयुर्वेदिक और निर्यात की जाने वाली औषधियों के पौधों के साथ ही उनकी फसलों की पैदावार की जाएगी जिससे कि हम हम किसानों की आमदनी को बढ़ा सकेगें साथ ही रोजगार के अवसर भी पैदा कर सकते हैं।
गौरतलब है कि किसी कृषि आधारित उत्पादों को वैल्यू एडिशन प्रोडक्ट के 10 हजार करोड़ों रुपए का अलग से पैकेज दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि मैंगो पैकहाउस से बहुत सी चीजों को निर्यात किया जा रहा है। आने वाले दिनों में इसमें फल और सब्जियों को विशेष तौर पर इस्तेमाल किया जाएगा जिससे इसका ज्यादा से ज्यादा सदुपयोग हो सके किसानों को मदद मिल सके और निर्यातकों को निर्यात करने में सुविधा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *