Tue. Aug 20th, 2019

ग्रीन इनर्जी 6.64 से 4.78रू0 प्रति यूनिट


पावर कारपोरेषन ने सस्ती दरो पर ग्रीन इनर्जी की खरीद के लिये उठाये नये कदम
ऊर्जा मंत्री द्वारा विद्युत क्रय की लागत को कम करने के लिये दिये गये निर्देषों के अनुपालन में कोयला आधारित बिजली उत्पादन केन्द्रों से खरीदी जाने वाली बिजली की दरों को काफी सीमा तक नियंत्रित करने के उपरान्त, अब पावर कारपोरेषन ने सस्ती दरों पर ग्रीन इनर्जी की खरीद के लिये आवष्यक कदम उठाए हैं। गौरतलब है कि प्रदेष में स्थित चीनी मिलों के परिसर में स्थित, बगास (गन्ने का कचरा) आधारित बिजली संयंत्रों से, पावर कारपोरेषन प्रतिवर्श लगभग 1500 मे0वा0 बिजली खरीदता है। अब तक इस बिजली की खरीद दर विद्युत नियामक आयोग द्वारा तय टैरिफ पर की जाती थी। यह टैरिफ संयंत्रों की स्थापना के वर्श के आधार पर आयोग द्वारा तय किया जाता था। छः वर्श पूर्व स्थापित संयंत्रों की बिजली का टैरिफ रू0 5.67 प्रति यूनिट से रू0 6.64 प्रति यूनिट तक निर्धारित हुआ था। विगत कई वर्शों से इन्हीं दरों पर प्रदेष के लिये बिजली की खरीद की जा रही थी।


यह जानकारी देते हुये प्रमुख सचिव ऊर्जा एवं उ0प्र0 पावर कारपोरेषन के अध्यक्ष आलोक कुमार ने बताया है कि वर्तमान में विद्युत नियामक आयोग की अनुमति प्राप्त कर पावर कारपोरेषन द्वारा, इस बिजली के लिये प्रतिस्पर्धात्मक बिडिंग कराई गई जिसमें इस बिजली के लिये न्यूनतम दर रू0 4.78 प्रति यूनिट प्राप्त हुई है। उल्लेखनीय है कि यह दर नये संयंत्रों से उत्पादित होने वाली बिजली कीे है जो इन संयंत्रों के लिये नियामक आयोग द्वारा निर्धारित टैरिफ से रू0 1.86 प्रति यूनिट कम है। भविश्य में षीघ्र ही विद्युत नियामक आयोग द्वारा वर्श 2019 से वर्श 2024 के लिये नया रेग्यूलेषन घोशित किया जाने वाला है जिसमें 2005 के पूर्व से लेकर 2024 तक स्थापित किये जाने वाले बगास आधारित बिजली संयंत्रों के लिये नया टैरिफ घोशित किया जाएगा। चूंकि चीनी मिल मालिकों के द्वारा, पुराने संयंत्रो हेतु लिये गये ऋण का पूरा भुगतान हो चुका है एवं इन संयंत्रों का वर्तमान मूल्य भी डिप्रीषियेषन के कारण कम हो चुका है, अतः पावर कारपोरेषन ने विद्युत नियामक आयोग से प्रार्थना की है कि इन तथ्यों के दृश्टिगत, बगास आधारित पुराने संयंत्रो का टैरिफ रू0 4.78 प्रति यूनिट से कम निर्धारित किया जाए ताकि प्रदेष के उपभोक्ताओं को मँहगी बिजली के बोझ से बचाया जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *