Tue. Aug 20th, 2019

चुनाव तय वक्त में ही होंगे मुख्य चुनाव आयुक्त

 

 

इस बार के चुनाव में फॉर्म 26 में शपथपत्र में दी जाने वाली जानकारियों में अपनी 5 साल की आमदनी का ब्यौरा देना होगा साथ ही बीवी, बच्चों एवं हिन्दु आविभाजित परिवार के साथ-साथ विदेसी संपत्तियों की भी जानकारी दी जायेगी जिसको आयकर विभाग जांच-पढ़ताल करने के बाद उसकी रिपोर्ट मुख्य निर्वाचन आयोग की वेबसाइट पर दी जायेगी। गलत जानकारी देने पर कार्रवाई की जायेगी। यह जानकारी मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने योजना भवन में प्रेसवार्ता के दौरान कहीं।
ईवीएम पर बात करते हुए उन्होंने कहा कि हमने ईवीएम को जाने अनजाने में पूरे देश मे फुटबॉल बना दिया है। अगर इससे रिजल्ट अनुकूल है, तो ईवीएम ठीक है, नहीं तो खराब। इस दौरान मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने राजनीतिक दलों को विभिन्न मुद्दों पर ध्यान दिलाया। इसमें शामिल हैं।

इस चुनाव में सी विजिल एप को भी लॉन्च किया जाएगा। इसे पॉयलट प्रोजेक्ट के तौर पर कर्नाटक में लॉन्च किया गया था। जहां हमे 28 हजार शिकायत नागरिकों के जरिये मिली थी। एप के जरिये नागरिक चुनाव से जुड़ी कोई भी शिकायत इस पर करेगा, तो 100 मिनट में अधिकारी को रेस्पॉन्स करना होगा कि उन्होंने क्या करवाई की। अगर नागरिक कैश इस्तेमाल करने या कोई और गंभीर शिकायत करते समय अपना नाम गुप्त रखना चाहता है तो उसे भी सुविधा होगी। आयोग उस पर की गई करवाई की जानकारी अखबार में विज्ञापन के जरिए देगा।

कुछ दलों ने पड़ोसी देश के नागरिकों के नाम भी मतदाता सूची में होने की शिकायत है उसे सही किया जाए।
हमारे पास मतदान केंद्रों पर मोबाइल रोकने का सुझाव आया है।
कुछ दलों ने हर चक्र की मतगणना के बाद परिणाम घोषित करने की मांग की।
कुछ दलों का कहना था कि स्टार प्रचारक की गाड़ी की जांच न हो और उसमे प्रचार सामग्री ले जाने की अनुमति दी जाए।

जाति व धर्म आधरित भाषण पर रोक लगे।
पुलिस की निष्पक्षता सुनिश्चित हो।
100ः केंद्रीय बल लगे।
कमजोर को वोट देने से न रोका जाए।
राजनीतिक दलों द्वारा खर्च की सीमा तय की जाए।
कुछ राजनीतिक दलों ने वोटर लिस्ट में गड़बड़ी की शिकायत की है उसे सही किया जाए।
बीएलओ की मॉनीटरिंग और बेहतर करने के सुझाव दिए जाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *