Wed. Jun 26th, 2019

उत्तर प्रदेश मेडिकल सप्लाई कारॅपोरेशन लिमिटेड लूट का अड्डा


उत्तर प्रदेश में चिकित्सा विभाग का उत्तर प्रदेश मेडिकल सप्लाई कारॅपोरेशन लिमिटेड लूट का अड्डा साबित हो रहा है। इस निगम को बनाते वक्त मौजूदा सरकार ने एलान किया था कि इस काॅरपोरेशन के बनने के बाद सप्लाई में स्पष्टता और पारर्दिर्शता आयेगी।
इस निगम के आने से हर जिलों में खरीद की लूट बंद हो जायेगी और विश्व स्तर की गुणवत्ता के सामानों की खरीद होगी, लेकिन यहां पर इसका उलट हो रहा है दवा और उपकरोंणों की खरीद के साथ-साथ माॅनव संसाधनों में भी जमकर लूट हो रही है।
राज्य सरकार के मंत्री और प्रमुख सचिव पितामाॅह भीष्म की तरह सेे धर्म पर अधर्म की जीत पर मौन धारण किये है।
सबसे ज्यादा खास बात यह है कि प्रबंध निदेशक महोदया ने अपने घर पर भी एक कैम्प आफिस खोल रखा है जिसमें
महाप्रबंधक दवा खरीद एवं महाप्रबंधक उपकरण-उपार्जन, दवा एवं उपकरण निर्माताओं से सीधे तोलमोल कर खरीद को टेंडर प्रक्रिया के माध्यम से खरीद को दिखा रहे है।

गौरतलब है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर समेत प्रदेश के 28 जिला महिला अस्पतालों और 06 जिला संयुक्त अस्पतालों को खराब उपकरण सप्लाई कर दिए गए। नवजात शिशुओं को संक्रमण से बचाने केे लिए इस्तेमाल की जाने वाली मशीनें रेडिएंट वार्मर और फोटों थेरेपी सही काम नही कर रही है।कम वजन के नवजात को संक्रमण से बचाने और स्वस्थ्य रखने के लिए रेडिएंट वार्मर और फोटो थेरेपी मशीन का उपयोग किया जाता है। गोरखपुर समेत लगभग कई जिलों में तकनीकी खरबी के कारण इन मशीनों ने ठीक से काम नहीं किया।
शासन को लगातार अवगत करातें सीएमएसों का कहना है कि जब मशीन की खरीद की जाती है तो उसका डिमोस्ट्रेशन उत्तर प्रदेश मेडिकल सप्लाई कारॅपोरेशन लिमिटेड के उपकरण-उपार्जन महाप्रबंधक एवं टेक्निकल टीम उसका निरीक्षण एवं रख रखाव और गुणवत्ता टेस्ट करने के बाद ही उसकी खरीद करते हैं। यह कैसे सम्भव है कि एक मशीन खराब निकल जाये तो बात हो सकती है लेकिन इतने बड़े पैमानेें पर मशीनों की गड़बड़ी इस बात का संकेत है कि उत्तर प्रदेश मेडिकल सप्लाई कारॅपोरेशन लिमिटेड के उपकरण-उपार्जन महाप्रबंधक एवं टेक्निकल टीम और वहां की प्रबंध निदेशक इन खराब मशीनों की खरीद के जिम्मेदार है । ये और बात है कि सरकार और शासन इन लोगों को बचाने में लगातार कोशिशे कर रहा है।
गौरतलब है कि दवा खरीद में भी दवाअें की गुणवत्ता से समझौता किया जा रहा है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *