Wed. Sep 18th, 2019

डिफॉल्टरों के नामों का खुलासा करे- जी वी मनिमारन


देश की तरक्की में सबसे बड़ा योगदान सरकारी बैंकों का है जिसको सरकार निजी हाथों में दे कर देश और समाज को आर्थिक तंगी की तरफ ले जाने की साजिश है। यह बात सी बी ओ ए अपनी कार्यकारी समिति की बैठक 17-18 अगस्त (अखिल भारतीय राष्ट्रीयकृत बैंक अधिकारी महासंघ के महासचिव और ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स कन्फेडरेशन के वरिष्ठ उपाध्यक्ष) ने जी वी मनिमारन ने होटल विस्टा रेजिडेंसी में कही।

उन्होंने कहा कि ने कहा कि हाल ही में हुए कुछ बदलावों को सरकार बैंकिंग क्षेत्र में लागू किया है उन्होंने अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव डाला है। सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के बड़े पैमाने पर विलय ने न केवल बीमार बैंकों के संकट को बढ़ाया है, बल्कि आम जनता के लिए संभावित रोजगार के अवसरों का भी नुकसान हुआ है (क्योंकि कई शाखाओं को बंद ध् विलय कर दिया गया है)। पीएसबी द्वारा सामना की जा रही मुख्य समस्या एनपीए के हैं, जिनमें से अधिकांश कॉर्पोरेट सेक्टर द्वारा चूक के कारण हैं। सरकार इन एनपीए का दोष बैंक के अधिकारियों पर डाल रही है, बजाय इसके कि कड़े उपायों की शुरुआत करे और डिफॉल्टरों के नामों का खुलासा करे।

बैंक हजारों करोड़ के एनपीए को माफ कर रहे हैं जो सीधे तौर पर डिफॉल्टरों को फायदा पहुंचा रहे हैं, लेकिन बैंक कर्मचारियों को सम्मानजनक वेतन वृद्धि से इनकार कर रहे हैं।

उन्होंने यह भी कहा कि निजीकरण गरीब लोगों के लिए स्थिति को खराब करने वाला है क्योंकि निजी क्षेत्र केवल मुनाफे के लिए काम करते हैं लेकिन सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक गरीबो के कल्याण के लिए काम करते हैं।

के क्षेत्रीय सचिव विवेक श्रीवास्तव ने कहा कि बैंकर्स हमेशा गरीब लोगों के सर्वोत्तम हित और जनता के धन की रक्षा के लिए काम कर रहे हैं। जनता को इसे समझने और सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों की स्थिति को बनाए रखने के लिए सहयोग करने की आवश्यकता है।

सी बी ओ ए के उप महासचिव अंशुमान सिंह ने कहा कि सरकार के सभी कल्याणकारी योजनाओं को लागू करने के लिए सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक जनता और सरकार के बीच सेतु हैं और ट्रेड यूनियन इस पुल को अक्षुण्ण बनाए रखने के लिए बहादुरी से लड़ रहे हैं।

केनरा बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन केनरा बैंक की मेजरिटी ट्रेड यूनियन है जिसकी सदस्यता 30000़ अधिकारियों की है। यह अखिल भारतीय बैंक अधिकारियों के परिसंघ से संबद्ध एक संगठन है जो भारतीय बैंकिंग उद्योग के 3 लाख से अधिक अधिकारियों का एक संगठन है। सी बी ओ ए स्थापना के बाद से यानी 1966 से लगातार केनरा बैंक के अधिकारियों के समुदाय के कल्याण के लिए काम कर रहा है और उनकी कार्यशील स्थिति में सुधार कर रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *