भारत का विदेश व्यापार : नवम्‍बर, 2019



अप्रैल-नवम्‍बर, 2019 के दौरान निर्यात में 1.60 प्रतिशत का इजाफा

अप्रैल-नवम्‍बर 2019-20 के दौरान व्यापार घाटे में उल्लेखनीय कमी

भारत से अप्रैल-नवम्‍बर 2019-20में 353.96 अरब अमेरिकी डॉलर का समग्र निर्यात (वस्‍तुएं एवं सेवाएं) होने का अनुमान लगाया गया है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 1.60 प्रतिशत की वृद्धि को दर्शाता है। उधर, अप्रैल-नवम्‍बर 2019-20* के दौरान 408.02 अरब अमेरिकी डॉलर का समग्र आयात होने का अनुमान लगाया गया है, जो पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में 5.30 प्रतिशत की ऋणात्‍मक वृद्धि को दर्शाता है।

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image001BWKN.png

* नोटः आरबीआई द्वारा जारी किया गया सेवा क्षेत्र से जुड़ा नवीनतम डेटा अक्‍टूबर 2019 से संबंधित है। नवम्‍बर 2019 से संबंधित डेटा सिर्फ एक आकलन है जिसमें आरबीआई की अगली प्रेस विज्ञप्ति के आधार पर संशोधन किया जाएगा।

 

वस्‍तुओं का व्‍यापार

निर्यात (पुनर्निर्यात सहित)

नवम्‍बर, 2019 में 25.98 अरब अमेरिकी डॉलर का निर्यात हुआ जो नवम्‍बर 2018 में हुए निर्यात की तुलना में 0.34 प्रतिशत की ऋणात्मक वृद्धि को दर्शाता है। रुपये के लिहाज से नवम्‍बर, 2019 में निर्यात 1,85,644.81 करोड़ रुपये का हुआ जो नवम्‍बर, 2018 के मुकाबले 0.90 प्रतिशत की ऋणात्‍मक वृद्धि को रेखांकित करता है।

नवम्‍बर, 2019 में जिन प्रमुख जिंस समूहों के निर्यात में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में धनात्मक वृद्धि दर्ज की गई है उनमें निम्नलिखित शामिल हैं-

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image0023O65.png

अप्रैल-नवम्‍बर, 2019-20 में कुल निर्यात 211.93 अरब अमेरिकी डॉलर (14,89,793.87 करोड़ रुपये) का हुआ जो अप्रैल- नवम्‍बर, 2018-19 में हुए कुल निर्यात की तुलना में डॉलर की दृष्टि से 1.99 प्रतिशत की ऋणात्‍मक वृद्धि और रुपये के लिहाज से 1.02 प्रतिशत की ऋणात्‍मक वृद्धि को दर्शाता है।

नवम्‍बर 2019 में गैर-पेट्रोलियम और गैर-रत्न व जेवरात निर्यात 19.31 अरब अमेरिकी डॉलर का हुआ, जो नवम्‍बर 2018 की तुलना में 4.08 प्रतिशत की धनात्‍मक वृद्धि को दर्शाता है। अप्रैल- नवम्‍बर 2019-20 में गैर-पेट्रोलियम और गैर-रत्न व जेवरात निर्यात 156.76 अरब अमेरिकी डॉलर का हुआ, जो पिछले वित्‍त वर्ष की समान अवधि की तुलना में 0.17 प्रतिशत की धनात्‍मक वृद्धि को रेखांकित करता है।

आयात

नवम्‍बर 2019 में 38.11 अरब अमेरिकी डॉलर (2,72,274.45 करोड़ रुपये) का आयात हुआ जो नवम्‍बर, 2018 के मुकाबले डॉलर के लिहाज से 12.71 प्रतिशत कम है और रुपये के लिहाज से भी 13.20 प्रतिशत कम है। अप्रैल- नवम्‍बर 2019-20 में कुल मिलाकर 318.78 अरब अमेरिकी डॉलर (22,39,900.18 करोड़ रुपये) का आयात हुआ, जो अप्रैल- नवम्‍बर 2018-19 में हुए आयात की तुलना में डॉलर के लिहाज से 8.91 प्रतिशत कम है और रुपये की दृष्टि से भी 8.11 प्रतिशत कम है।

नवम्‍बर, 2019 में जिन प्रमुख जिंस समूहों के आयात में पिछले साल की समान अवधि की तुलना में ऋणात्‍मक वृद्धि दर्ज की गई है उनमें निम्नलिखित शामिल हैं-

http://164.100.117.97/WriteReadData/userfiles/image/image003R6OL.png

सेवाओं का व्यापार

निर्यात (प्राप्तियां)

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा 13 दिसम्‍बर, 2019 को जारी नवीनतम प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार अक्‍टूबर, 2019 में निर्यात 17.70 अरब अमेरिकी डॉलर (1,25,725.53 करोड़ रुपये) का हुआ, जो अक्‍टूबर 2018 की तुलना में डॉलर के लिहाज से 5.25 प्रतिशत की धनात्मक वृद्धि को दर्शाता है। नवम्‍बर 2019* में सेवाओं का निर्यात 17.26 अरब अमेरिकी डॉलर का होने का अनुमान लगाया गया है।

 

आयात (भुगतान)

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा 13 दिसम्‍बर, 2019 को जारी नवीनतम प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार अक्‍टूबर, 2019 में आयात 10.86 अरब अमेरिकी डॉलर (77,177.20 करोड़ रुपये) का हुआ, जो अक्‍टूबर 2018 की तुलना में डॉलर के लिहाज से 7.58 प्रतिशत की धनात्‍मक वृद्धि को दर्शाता है। नवम्‍बर 2019* में सेवाओं का आयात 10.28 अरब अमेरिकी डॉलर का होने का अनुमान लगाया गया है।

 

व्यापार संतुलन

 

वस्‍तुएं: नवम्‍बर, 2019 में व्यापार घाटा 12.12 अरब अमेरिकी डॉलर रहने का अनुमान लगाया गया है, जबकि नवम्‍बर 2018 में व्यापार घाटा 17.58 अरब अमेरिकी डॉलर का हुआ था।

 

सेवाएं : आरबीआई द्वारा 13 दिसम्‍बर, 2019 का जारी प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार अक्‍टूबर, 2019 के दौरान सेवाओं में व्यापार संतुलन (अर्थात शुद्ध सेवा निर्यात) 6.83 अरब अमेरिकी डॉलर रहने का अनुमान लगाया गया है।

 

समग्र व्यापार संतुलन : वस्‍तुओं एवं सेवाओं दोनों को ही मिलाने पर अप्रैल-नवम्‍बर 2019-20में कुल मिलाकर 54.06 अरब अमेरिकी डॉलर का व्यापार घाटा होने का अनुमान लगाया गया है, जबकि अप्रैल-नवम्‍बर 2018-19 में व्यापार घाटा 82.47 अरब अमेरिकी डॉलर का हुआ था।

 

* नोटः आरबीआई द्वारा जारी किया गया सेवा क्षेत्र से जुड़ा नवीनतम डेटा अक्‍टूबर, 2019 से संबंधित है। नवम्‍बर 2019 से संबंधित डेटा सिर्फ एक आकलन है जिसमें आरबीआई की अगली प्रेस विज्ञप्ति के आधार पर संशोधन किया जाएगा।

 

वस्‍तुओं एवं सेवाओं के व्‍यापार से जुड़ी विस्‍तृत जानकारी प्राप्‍त करने के लिए अंग्रेजी का अनुलग्‍नक यहां क्लिक करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *