Mon. May 25th, 2020

जापान और भारत एक ‘‘विशेष रणनीति और वैश्विक भागीदारी’’ साझा करते हैं -केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश की अर्थव्यवस्था काफी हद तक कृषि पर आधारित है साथ ही कई क्षेत्रों में मिलजुल कर अच्छा काम किया जा सकता है, जिसमे खाद्य प्रसंस्करण, आई0टी 0,पर्यटन, खनिज आधारित उद्योग ,वस्त्र, हथकरघा, हस्तशिल्प, जैव प्रौद्योगिकी आदि शामिल है। इन क्षेत्रों की क्षमता बढ़ाने और जापानी निवेश को बढ़ाने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार पूरी तरह से तत्पर है। यह बात चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री ( फिक्की ) के उ0 प्र0 के साथ चैथे संवाद कार्यक्रम को बतौर मुख्य अतिथि उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने राजधानी के एक निजी होटल में कही।

उन्होंने कहा कि देश व प्रदेश में निवेश की प्रबल व अपार संभावनाएं हैं । यहां की जलवायु, यहां का वातावरण और कानून व्यवस्था सब कुछ निवेश करने के लिए बहुत ही अनुकूल है । उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा निवेश के लिए कई अहम कदम भी उठाए गए हैं
इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री ने कहा कि जापान और भारत एक ‘‘विशेष रणनीति और वैश्विक भागीदारी’’ साझा करते हैं । जापानी दूतावास के साथ साझेदारी में फिक्की फोरम ने भारतीय राज्यों के साथ संबंधों को गहरा करने और सामाजिक व आर्थिक हितों को बढ़ावा देने के लिए इस वार्ता की श्रंखला शुरू की थी। भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापान के प्रधानमंत्री की दोस्ती हमारे संबंधों की एक मिसाल है, जो विश्व में शांति और स्थिरता के लिए अत्यंत आवश्यक है। एक पुनरुत्थान करने वाला जापान और परिवर्तित भारत एशियाई सामरिक परिदृश्य के साथ-साथ पूरे विश्व को एक नया रूप दे सकता है।
उन्होंने कहा कि महात्मा बुद्ध से संबंधित तीर्थ स्थानों में सर्वाधिक पांच स्थल उत्तर प्रदेश में हैं ,जिन्हे हम तीर्थ स्थल एवं पर्यटन के क्षेत्र के रूप में विश्व पटल पर और भव्य रूप दे सकते हैं ,इसके अलावा भी यहां पर पर्यटन क्षेत्र विकसित करने की असीम संभावनाएं हैं। पर्यावरण,नदी,सिचाई आदि के क्षेत्र में कार्य करके हम यहां की गरीब जनता के जीवन स्तर में परिवर्तन ला सकते हैं।
श्री मौर्य ने जापान के राजदूत सतोशी सुजुकी को उनकी नई भूमिका के लिए उन्हे बधाई दी और आशा व्यक्त की कि उत्तर प्रदेश व देश में निवेश के लिए उनके स्तर से बहुत बड़े कदम उठाए जाएंगे ।
केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि तकनीकी के मामले में जापान दुनिया में अपना डंका बजा रहा है । जापान का उत्तर प्रदेश की व्यवसायिक व धार्मिक दृष्टि से जुड़ाव अधिक होगा । उत्तर प्रदेश की सरकार ने डिफेंस एक्स्पो व इन्वेस्टर्स समिट करके देश और प्रदेश में निवेश को बढ़ावा देने के महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। फिक्की के साथ उत्तर प्रदेश की यह चैथी बैठक हो रही है और हम सभी क्षेत्रों में अच्छा कार्य मिलकर कर सकते हैं । देश को जापान सहित दुनिया की अन्य तकनीकों की भी आवश्यकता है ,जिसके लिये यहां निवेश के द्वार खुले हैं। फिक्की के माध्यम से दुनिया का निवेश यहां लाया जा सकता है ।
उन्होने कहा कि यहां निवेश करने के लिए जो मंथन किया गया है, निश्चित रूप से इसके सकारात्मक और सार्थक परिणाम निकल कर आएंगे।
जापान के राजदूत सतोशी सुजुकी ने उत्तर प्रदेश और देश में निवेश के लिए अपने महत्वपूर्ण विचार व्यक्त किए ।
राज्यसभा सदस्य संजय सेठ ,ज्योत्सना सूरी ने भी अपने महत्वपूर्ण विचार प्रकट किए। इस अवसर पर शरद जयपुरिया ,लखनऊ विश्वविद्यालय के कुलपति आलोक कुमार राय, संतोष सुजुकी, प्रमुख सचिव उत्तर प्रदेश शासन नवनीत सहगल, प्रमुख सचिव उत्तर प्रदेश शासन जितेंद्र कुमार, आलोक कुमार, दिलीप, अमर तुलसियान और उ0 प्र0 के कई एम0 एल0 सी0 प्रमुख रूप से मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *