Thu. May 28th, 2020

भूख का कोई मजहब नहीं होता- सादिया उस्मान

बहुत कम ऐसे लोग होते हैं जो दूसरों की जिन्दगियों में बदलाव लाने की लिए अपनी निजी जिन्दगी का मकसद तक बदल देते हैं, निष्पक्ष और निस्वार्थ सेवा जो दूसरों की जिंदगी में खुशी लाने के लिए की गई हो वही समाजसेवा होती है, जो सामुदायिक सगठन एवं अन्य विधियों द्वारा लोगों एवं समूहों के जीवन-स्तर को उन्नत बनाने का प्रयत्न करता है। आज आपके शहर अलीगढ के ऎसी ही मशहूर और विश्वसनीय शक्सियत की हम बात करेंगे जिसने हर वर्ग, जाति और धर्म की हर प्रकार से सेवा की और कभी अपने सराहनीय कार्यों का प्रदर्शन नहीं किया, इस कोरोना वायरस के संक्रमण के समय पूर्ण रूप से वो लोगों की सेवा करते नहीं थकती, रात दिन लोग उन्हें सड़कों और मलीन बस्तियों में भोजन पहुंचाते, दवा उपलब्ध कराते देख रहे हैं. उस व्यक्तितत्व का नाम है सादिया उस्मान जो उस्मानिया हेल्पिंग हैंड्स सोसाइटी के अंतर्गत अपने कार्यों का संचालन कर रही हैं , जो एक समाज सेवी हैं लेकिन व्यक्तितत्व और इच्छा से वो एक चिंतक, आध्यात्मिक, तर्कशील और न्यायसंगत व्यक्तितत्व भी हैं. केवल 33 वर्ष की आयु में सादिया उस्मान ने हर तरह से समाज की भलाई के लिए कार्य करके खुद को साबित किया। सादिया उस्मान अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी कि छात्रा रही हैं. सादिया ने गरीबी और भुकमरी से लड़ने को अपना मकसद बनाया और बिना किसी पक्षपात और भेदभाव के उस्मानिया हेल्पिंग हैंड्स के तहत भूख का कोई मजहब नहीं होता ) जैसे कठिन उद्देश्य को पूरा करने की ठानी, जिसमें हर दिन गरीब और भूख से परेशान लोगों को खाना खिलाया जाता है , उन्होंने अपने मिशन की शुरुवात 14 सितंबर 2017 से शुरू की जो अब तक जारी है और सबसे विश्वसनीय सेवा के रूप में उभर कर सामने आया है जिसके लिए उन्हें 16 जून 2019 को कश्मीर में अवार्ड दिया गया, और फिर 27 सितंबर 2019 को कतर ( दोहा ) में एक आलमी मुशायरे में बुलाकर भारत के बेस्ट सोशल वर्कर के लिए खिताब दिया गया. 2017 से अब तक हर दिन वह लगभग 150 से 200 गरीबों को खाना बांटती हैं और विशेषकर इस लाक डाउन में सादिया उस्मान ने 1000 परिवारों को पूरी राशन किट का वितरण किया है और अपनी टीम की सहायता से लगातार वितरण जारी है. खाना बांटने के अलावा सर्दियों में कम्बल बांटना, निशुल्क चिकित्सा शिविर लगवाना, गरीब बच्चियों की निशुल्क हैंडीक्राफ्ट का कोर्स करवाना उनके दूसरे कार्यों में शामिल है. उनकी टीम में मोहम्मद फैजान, अदनान अहमद, फरमान राशिद, फराज अब्दुल्लाह और सबीहा नसीर शामिल हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *